JSSC Matric Level Syllabus and Exam Pattern 2024 [ PDF ]

JSSC Matric Level Syllabus 2023: Jharkhand Staff Selection Commission (JSSC) has released the  JSSC Matric Level  Competitive Examination 2023 Syllabus. You Can Download This Syllabus in PDF.

📝 Exam Name JSSC Matric Level  Competitive Examination 2023
🏢 Organization Jharkhand Staff Selection Commission (JSSC)
🔢 Total Posts 455
🎓 Qualification 10th Pass
🌐 Application Process Online
💵 Application Fee 100 And 50
🌐 Online Start Date 04 July 2023
🔴 Online Last Date 03 August 2023
🖊️ Exam
📋 Result

परीक्षा का स्वरूप

आयोग द्वारा OMR आधारित परीक्षा ली जायेगी। परीक्षा यदि विभिन्न समूहों  में  लिया जाता है तो अभ्यर्थियों  के प्राप्तांक का Normalisation किया जायेगा एवं मेधा सूची उनके प्राप्ताकं के Normalised अंक के आधार पर तैयार किया जायेगा  तथा परीक्षाफल प्रकाशन के पश्चात् उन्हें Normalised अंक ही दिया जायेगा।

  • परीक्षा का स्वरूप एवं पाठ्यक्रम:- परीक्षा एक चरण (मुख्य परीक्षा) में  ली जायेगी।
परीक्षा में सभी प्रश्न वस्तुनिष्ठ एवं बहुविकल्पीय उत्तर युक्त होंगे। एक प्रश्न का पूर्ण अंक 3 (तीन) होगा। प्रत्येक सही उत्तर के लिए 3 (तीन) अंक दिये जायेंगे तथा प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 1 (एक) अंक की कटौती की जायेगी।
  • नोट:- भाषा विषयों को छोड़कर अन्य विषयों के प्रश्न हिन्दी एवं अंग्रेजी भाषा में होंगे।

मुख्य परीक्षा

मुख्य परीक्षा के लिए तीन पत्र होंगे। यह परीक्षा तीन पालियों में ली जायेगी। प्रत्येक पत्र के परीक्षा की अवधि 2 घंटा की होगी। इसमें  निम्न विषय रहेंगे :-

पत्र – 1 (भाषा ज्ञान)

 कुल प्रश्न – 120, परीक्षा अवधि – 2 घंटा

(क) हिन्दी भाषा ज्ञान 80 प्रश्न
(ख) अंग्रेजी भाषा ज्ञान 40 प्रश्न

भाषा ज्ञान में प्राप्त अंक मात्र अर्हक (Qualifying) होगा, जिसमें उत्तीर्ण होने के लिए हिन्दी एवं अंग्रेजी भाषा ज्ञान में प्राप्त अंको को जोड़ कर 30% अंक प्राप्त करना निर्धारित रहेगा। इस पत्र में  प्राप्त अंक मेधा निर्धारण के लिए नहीं जोड़ा जायेगा।

पत्र – 2 (जनजातीय एवं क्षेत्रीय भाषा)

कुल प्रश्न-100, परीक्षा अवधि- 2 घंटा

हिन्दी/अंग्रेजी/उर्दू/संथाली/बंगला/मुण्डारी (मुण्डा)/ हो/ खड़िया/ कुडूख(उरांव)/ कुरमाली/ खोरठा/ नागपुरी/ पंचपरगनिया/उड़िया में  से किसी एक भाषा की परीक्षा विकल्प के आधार पर अभ्यर्थी दे सकेंगे। इस परीक्षा में संबंधित भाषा के 100 बहुवैकल्पिक प्रश्न पूछे जायेंगे।
  • नोट:- चिन्हित क्षेत्रीय/जनजातीय भाषा में 30 प्रतिशत अंक प्राप्त करना अनिवार्य होगा।

पत्र- 3 (सामान्य ज्ञान)

कुल प्रश्न-120, परीक्षा अवधि- 2 घंटा

(क) सामान्य अध्ययन 40 प्रश्न
(ख) झारखण्ड राज्य से संबंधित ज्ञान 50 प्रश्न
(ग) सामान्य गणित 10 प्रश्न
(घ) सामान्य विज्ञान 20 प्रश्न
  • सामान्य ज्ञान परीक्षा में 30 प्रतिशत अंक प्राप्त करना अनिवार्य होगा।

टिप्पणीः- पत्र-1 (भाषा ज्ञान) की परीक्षा में न्यूनतम अर्हतांक 30% (तीस प्रतिशत) है। इससे कम अंक प्राप्त करने वाले अभ्यर्थी नियुक्ति के लिए चयन हेतु असफल/अयोग्य माने जायेंगे तथा ऐसे अभ्यर्थियों के पत्र-2 एवं पत्र-3 का मूल्यांकन नहीं किया जायेगा। इसी तरह चिन्हित क्षेत्रीय/जनजातीय भाषा प्रश्न पत्र-2 में 30 प्रतिशत से कम अंक प्राप्त करने वाले अभ्यर्थियों के प्रश्न पत्र-3 का मूल्यांकन नहीं किया जायेगा।

मुख्य परीक्षा का पाठ्यक्रम

पत्र – 1 (भाषा ज्ञान)

(क) हिन्दी भाषा ज्ञान:-
(i) हिन्दी अनुच्छेद पर आधारित प्रश्न 20 प्रश्न
(ii) हिन्दी व्याकरण पर आधारित प्रश्न 60 प्रश्न
इस विषय में हिन्दी अपठित अनुच्छेद (Unseen Passage) तथा हिन्दी व्याकरण पर आधारित प्रश्न रहेंगे।
(ख) अंग्रेजी भाषा ज्ञान:-
(i) अंग्रेजी अनुच्छेद पर आधारित प्रश्न 20 प्रश्न
(ii) अंग्रेजी व्याकरण पर आधारित प्रश्न 20 प्रश्न
इस विषय में अंग्रेजी अपठित अनुच्छेद (Unseen Passage) तथा अंग्रेजी व्याकरण पर आधारित प्रश्न रहेंगे।

पत्र – 2 (क्षेत्रीय भाषा)

हिन्दी/अंग्रेजी/उर्दू/संथाली/बंगला/मुण्डारी (मुण्डा)/ हो/ खड़िया/ कुडूख (उरांव)/ कुरमाली/ खोरठा/ नागपुरी/पंचपरगनिया/उड़िया में से किसी एक भाषा की परीक्षा विकल्प के आधार पर अभ्यर्थी दे सकेंगे।
  • इस परीक्षा में संबंधित भाषा के 100 बहुवैकल्पिक प्रश्न पूछे जायेंगे।

हिन्दी

विषय : हिन्दी

पुस्तक – क्षितिज भाग-2
काव्य – खण्ड
1. उधो तुम हौ अति बड़भागी – सूरदास
2. राम-लक्ष्मण – परशुराम संवाद -तुलसीदास
3. ‘डार द्रुम पलना’ ‘पलनी नुपूर’ – देव
4. ‘आत्मकावय’ – जयशंकर प्रसाद
5. ‘उत्साह’, ‘अट नहीं रही ‘ – सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला
6. ‘फसल’, ‘यह दंतुरित मुस्कान’ – नागार्जुन
7. छाया मत छूना मन – गिरिजा कुमार माथुर
8. कन्यादान  – ऋतुराज
9. संगतकार – मंगलोश डबराल
गद्य – खण्ड
1. नेता जी का चश्मा – स्वयं प्रकाश
2. बाल गोबिन भगत – रामवृक्ष बेनीपुरी
3. लखनवी अंदाज – यशपाल
4. मानवीय करूण की दिव्य चमक – सर्वेश्वर दयाल सक्सेना
5. एक कहानी यह भी – मन्नू भण्डारी
6. स्त्री शिक्षा के विरोधी, कुतर्कों का खण्डन – महावीर प्रसाद द्विवेदी
7. नौबत खाने में इबादत – यतीन्द्र मिश्र
8. संस्कृति – भक्त आनन्द कौसल्यायन
पुस्तक- कृतिका भाग-2
1. माता का आँचल शिवपूजन सहाय
2. जार्ज पंचम की नाक कमलेश्वर
3. साना साना हाथ जोडि मधु कांकरिया
4. एही ठैयाँ झुलनी हेरानी हो रामा शिवप्रसाद मिश्र रूद्र
5. मैं क्यों लिखता हूँ अज्ञेय
व्याकरण :- क्रिया भेद, वाक्य भेद, संज्ञा, सर्वनाम, अव्यय, क्रिया विशेषण, अविकारी, समास, कारक, अनेकार्थी शब्द, मुहावरे, विपरीतार्थक शब्द, पत्र लेखन ।

कुरमाली

1. व्याकरण
संज्ञा, सर्वनाम, वचन, लिंग, पुरूष, भिन्नार्थक शब्द, विलोम शब्द, प्रत्यय, वाक्य-शुद्धिकरण।
2. शिष्ट साहित्य: कुरमाली – साहित्य के सभी पाठांश (कहानी, गीत, कविता)
3. लोक साहित्य: कुरमाली लोकथा
  1. लोकगीत – करम, बिहागीत, डमकच, बांदना (सोहराई)
  2. झारखण्ड के स्वतंत्रता सेनानी
  3. कुरमाली साहित्यकार एवं उनकी कृतियाँ
  4. कुरमाली साहित्य का सामान्य परिचय

हो

1. व्याकरण:-
संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण, काल, क्रिया, विशेषण, वचन, लिगं , पुरूष, पर्यायवाची शब्द, अनेक शब्दों के लिए एक शब्द, विलोम शब्द, कहावत, मुहावरे, पहेली काल आदि।
2. साहित्य :-
(I) गद्य संग्रह :- मगे मुनु जगर, मादेड़ साड़े, लको बोदरा, बले बुरू रेयः काअनि, रितुइ गोन्डाई, लाङ ओए चिल्काते बोंडोलेयना।
(II) पद्य संग्रह :- गुलाब बड़ा, दिषुम, अबुअः भारत दिसुम, अम्बुल, जोनोम दिसुम, सिंगि।

खोरठा

1. गद्य भागः- कहानी, एकांकी, नाटक, लघु उपन्यास
(क) खोरठा गद्य- पद्य संग्रह- प्रकाशक खोरठा साहित्य संस्कृति परिषद बोकारो।
(ख) दू डाइर जिरहुल फूल
2. व्याकरणः- संज्ञा, सर्वनाम, कारक, लिंग निर्णय, मुहावरा, कहावत।
3. निबंधः- समसामयिक विषय पर

खड़िया

1. व्याकरण:-
संज्ञा, सर्वनाम, वचन, लिगं , पुरूष, अनेकार्थक शब्द, विलोम शब्द, उपसर्ग, प्रत्यय, वाक्य शुद्धिकरण, मुहावरा, बुझवाल, उल्टा शब्द।
2. शिष्ट साहित्य:-
खड़िया पाठ्य पुस्तक के सभी पाठांश (कहानी, गीत, कविता आदि)
3. लोक साहित्य:-
(I) खड़िया कहानी (लोककथा)
(II) खड़िया गीत-पर‘ब-तिहा, बिहा (केरसोड.), मुरड‘, कसासिड.।
(III) खड़िया साहित्यकार-जुलियस बा‘, प्यारा केरकेट्टा, जोवाकिम डुँगडुँग, पौलुस कुल्लू।
(IV) निबंध – शहीद तेलंगे खड़िया, खड़िया महासभा, बंदोई, जाड, कोर, करम, मदेइत, जनम परब।

पंच परगनिया

1. व्याकरण :-
संज्ञा, सर्वनाम, वचन, लिगं , पुरूष, समान शब्द अर्थ अनेक, उल्टा शब्द, प्रत्यय, वाक्य शुद्धिकरण, विशिष्ट शब्द, पत्र लेखन आदि।
2. शिष्ट साहित्य :-
पंचपरगनिया साहित्य पुस्तक के सभी पाठांश (कहानी, गीत, कविता आदि)
3. लोक सहित्य :-
I. मारांग बुरू,
II. पूजा थान (दवे स्थल)
III. करम गीत, सँहरइ गीत, बिहा गीत, पुसगीत, मंतर गीत।
IV. बिरसा मुण्डा, स्वतंत्रता आन्दोलन से जुड़े लोग
V. पंचपरगनिया साहित्यकार एवं उनकी कृति
VI. पंचपरगनिया साहित्य का परिचय

संथाली

1. व्याकरण
संज्ञा, सर्वनाम, वचन, लिंग, पुरूष, समान शब्द अर्थ अनेक, विलोम शब्द, प्रत्यय, वाक्य शुद्धिकरण।
2. शिष्ट साहित्य
संताली-साहित्य पुस्तक के सभी पाठांश (कहानी, गीत, कविता)।
3. लोक साहित्य
(क) आगिल हापड़ाम कोवा; काथा,
(ख) आगिल हापड़ाम कोवा सेरेञ-एनेच -बाहा, डाहार, सोहराय, काराम, दाँसाँय।
(ग) माहात्मा गाँधी जियोन चरित।
(घ) सिदो कानहू और तिलका माँझी जीवन एवं आंदोलन
(ड़) संताली साहित्यकार एवं कृत्ति
(च) संताली साहित्य का परिचय

संस्कृत

प्रश्न झारखण्ड राज्य के मैट्रिक स्तर की पाठ्य पुस्तकों पर आधारित होंगे। झारखण्ड राज्य में दशम कक्षा हेतु स्वीकृत पुस्तक शेमुषी (भाग – 2) के सभी पाठ तथा उनमें अनुप्रयुक्त व्याकरण इसमें मुख्य रूप से शामिल होंगे। इनके अतिरिक्त शब्द रूप धातु रूप तथा व्याकरण के अन्य भाग इस प्रकार होंगे –

शब्द रूप
बालक, फल, रमा, पति, मति, नदी, धेनु, वधू, पितृ, मातृ, राजन, गच्छन्, भवत्, आत्मन्, विद्वस, तत् किम् इदम् अस्मद् युष्मद् ।
धातु रूप (लट, लोट, विधि लिङ्ग, लड्, तथा लृट लकारों में)
पठ्, गम्, लिखु, पा, स्था, दृश, अस्, भज्ञ, घ्रा, हन्, श्रु नृत्, स्पृश, कथ्, कृ, ज्ञा तथा क्री।
सन्धि – स्वर सन्धि (भेदों सहित), व्यंजन सन्धि, विसर्ग सन्धि ।
समास – तत्पुरूष, बहुब्रीहि तथा द्वन्द्व समास ।
कारक – सभी विभक्तियों का प्रयोग ।
सामान्य व्याकरण – संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण, क्रिया, अव्यय, ध्वनि, पद, धातु वाच्य रिर्वतन (केवल लट् लकार में)

नागपुरी

1. नागपुरी व्याकरण से-
वर्ण, संज्ञा, सर्वनाम, लिंग, वचन, विशेषण, क्रियाविशेषण, कारक, काल धातु, क्रिया, अव्वय, विपरीतार्थक शब्द, अनेकार्थक शब्द उपसर्ग-प्रत्यय, समास अनेक शब्दों के बदले एक शब्द, वाक्य शुद्धि।
2. नागपुरी शिष्ट साहित्य से –
मंजर- भाग-2 से- शकुंतला मिश्र, डॉ॰ उमेशनन्द तिवारी
3. नागपुरी लोक सहित्य से –
लोक गीत, लोक कथा, कहावत, पहेली, मुहावरे

मुण्डारी

1. व्याकरण
संज्ञा, सर्वनाम, वचन, लिंग पुरूष, समान शब्द अर्थ अनेक, विलोम शब्द, प्रत्यय, वाक्य शुद्धिकरण।
2. शिष्ट साहित्य
मुण्डारी साहित्य पुस्तक के सभी पाठांश-कहानी, गीत कविता।
3. लोक साहित्य
मुण्डारी लोक गीतों (बा, करम, जरगा, जतरा, जपि, अड़ान्दि)

कुडुख़

1. व्याकरण:-
संज्ञा, सर्वनाम, विषेषण, क्रिया विषेषण, लिंग, वचन, पुरूष, पर्यायवाची शब्द, विपरीतार्थक शब्दों के बदले एक शब्द, कहावत, मुहावरे, पहेली, काल आदि।
(क) शिष्ट साहित्य :-
कुडुख़ साहित्य पुस्तक के सभी पाठांश (कहानी, उपन्यास, नाटक, गीत, कविता)
2. लोक साहित्य :-
(क) लोक कथा
(ख) लोक गीत
(ग) मुहावरे
(घ) कहावतें
(ङ) पहेली

उड़िया

1. गद्य विभाग
A. साहित्य – 2007 (OBSE)
दुनियार हालचाल गोपाल चन्द्र प्रहराज
नारद स्तुति डा॰ सदाशिव मिश्र
जातिय स्त्रोते  वुद्विजीवी मानंक स्थान डा॰ वैद्यनाथ मिश्र
स्वाधीन जातिर नतू न मूल्यवोध डा॰ गोलक विहारी घल
B. आम साहित्य – 2007 (OBSE) 
उच्चाभिलाष शशिभूषण राय
सेहि स्मरणीय दिवस डा॰ हरेकृष्ण महताव
विद्या ओ विधार्थी चित्तरंजन दास
2. पद्य विभाग
A. साहित्य – 2007 (OBSE)
उत्कल संतन मधुसूदन दास
नदी प्रति मधुसूदन राउ
धउली पाहाड़ पदमचरण पट्टनायक
आगामी कालिन्दीचरण पाणिग्राही
बापुजी डा॰ मायाधर मानसिंह
B. आम साहित्य – 2007 (OBSE) 
युधिष्ठिरंक धर्म परीक्षा शरला दास
रामचरित उपेन्द्र भंज
छांट पुणि एडे से विराट सच्ची राउतराय
ग्रामपथ विनोद चंद्र नायक
3. उड़िया साहित्यर इतिहास
उड़िया साहित्यर आदि पर्व सुरेन्द्र मंहान्ती
उड़िया साहित्यर इतिहास मध्य पूर्व सुरेन्द्र मंहान्ती
उड़िया साहित्यर इतिहास डा॰ मायाधर मानसिंह
उड़िया साहित्यर संक्षिप्त इतिहास डा॰ वृन्दावन आचार्य
4. काव्य ओ कविता
श्रीमद् भागवत (एकादश स्कन्द) जगन्नाथ दास
तपस्विनी गंगाधर महेर
कारा कविता गोपवन्धु दास
5. उपन्यास
छ‘ माण आठगुण्ठ फकीर मोहन सेनापति
माटिर मणीष कालिन्दी चरण पाणीग्रही
6. गल्प
गल्प श्वल्प (प्रथम भाग) फकीर मोहन सेनापति
आजिर गल्प संकलन निमाइ चरण पटनायक
(डिमिरी फुल , मागुणीर शगड, शिकार)
7. नाटक
कोणार्क अश्विनी कुमार घोष
घर संसार रामचन्द्र मिश्र
8. व्याकरण
लिग, वचन, पुरूष, विभक्ति, अव्वय, क्रिया, संधि, समास, रूढि प्रयोग, विपरीतार्थक शब्द,
कुदन्त, तद्यित।

English

1. Language

  • Error Recognition.
  • Grammar- Adjective, Noun, Pronoun, Verb, Subject-Verb, Agreement, Interchangeability of Noun and Verb, Gerund, Participle, Infinitive, Adverb, Tense, Clause, Transfromation, Narration, Voice, Preposition.
  • Synonyms.
  • Antonyms.
  • Idioms & Phrases.
  • Comprehension Passage etc.

2. Literature

  • Novel- Oliver Twist- Charles Dickens; Animal farm- George Orwell; Five Point Someone- Chetan Bhagat; Treasure Island- R.L. Stevenson; Retold Stories: Lamb’s Tales from Shakespeare.
  • Poetry- The Daffodils- William Wordsworth; The Donkey- Sir J. Arthur Thomson; Death Be Not Proud- John Donne; Leisure- W.H. Davis; Where The Mind Is Without Fear- Rabindranath Tagore; The Loveleist of Tress, The Cherry Now- A.E. Housman.
  • Short Stories- Three Questions- Leo Tolstoy; The Tiger’s Claw- R.K. Narayan; A Man Who Had No Eyes- Mackinley Kantor; The Lost Jewel- Rabindranath Tagore.
  • Essay- Good Manners J.C. Hill; The Sun, the Planets and the Stars- C. Jones; Animals In Prison- Jawaharlal Nehru; Forgetting- R. Lynd.

A History of the English Language (in short): A History of English Language- A.C. Baugh, Origins of the English Language- Joseph Willies, Wikipedia.org

Urdu

1. Prose

I. Qaumi Hamdari Hali
II. Guzra Howa Zamana Sir Syed Ahmed Khan
III. Achhi kitab Molvi Abdul Haque

2. Urdu Poem

I. Tarana-e-Hind Iqbal
II. O Desh se Aanewale Bata Akhtar Sheerani
III. Nagma-e-Sahar Josh Malihabadi
IV. Barkha Rut aur Pardes Hali.

3. Urdu Grammar

I. Opposite
II. Gender
III. Singular
IV. Plural
V. Meanings

Bangla

1. Novel, Drama, Poetry
(A) Ramer Sumati- Sharatachandra
(B) Mukut-Rabindranath Thakur
(C) Shishu Kabyo (Selected)- Rabindranath Thakur
(i) Manjhi, (ii) Pujar Saj
(iii) Sukhdukkha (iv) kagajer Nouka
(D) Kabyo Sanchayan- Sahyendranath Dutta
(i) Mati (ii) Jharna
(iii) Palkirgan (iv) Sagar Tarpan
2. Grammar- Bisheshya, Bisheshan, Sarbanam, Kirya, Linga, Bachan
3. Essay
4. Letter writing

पत्र -3 (सामान्य ज्ञान)

(क) सामान्य अध्ययनः-
इसमें प्रश्नों का उद्देश्य अभ्यर्थी के आस-पास के वातावरण की सामान्य जानकारी तथा समाज में उनके अनुप्रयोग के संबंध में उसकी योग्यता की जाँच करना होगा। वर्तमान घटनाओं और दिन-प्रतिदिन की घटनाओं के सूक्ष्म अवलोकन तथा उनके प्रति वैज्ञानिक दृष्टिकोण जैसे मामलों की जानकारी जैसा कि किसी भी शिक्षित व्यक्ति से अपेक्षा की जाती है। इसमें भारत देश एवं झारखण्ड राज्य के संबंध में विशेष रूप से यथासंभव प्रश्न पूछे जा सकते हैं। सम-सामयिक विषय – राष्ट्रीय एवं राज्य स्तरीय पुरस्कार, भारतीय भाषाएँ, पुस्तक, लिपि, राजधानी, मुद्रा, खेल-खिलाड़ी, महत्त्वपूर्ण घटनाएँ। भारत का इतिहास, संस्कृति, भूगोल, पर्यावरण, स्वतंत्रता आंदोलन, भारतीय कृषि तथा प्राकृतिक संसाधनों की प्रमुख विशेषताएँ एवं भारत का संविधान एवं राज्य व्यवस्था, पंचायती राज, सामुदायिक विकास, झारखण्ड राज्य की सामान्य जानकारी।
(ख) झारखण्ड राज्य से संबंधित ज्ञान:-
झारखण्ड राज्य के भूगोल, इतिहास, सभ्यता संस्कृति, भाषा-साहित्य, स्थान, खान खनिज, उद्योग, राष्ट्रीय आंदोलन में झारखण्ड का योगदान, विकास योजनाएँ, खेल-खिलाड़ी इत्यादि।
(ग) सामान्य गणित:-
इस विषय में सामान्यतः अंक गणित से सम्बन्धित प्रश्न रहेंगे। सामान्यतः इसमें मैट्रिक/10वीं कक्षा स्तर के प्रश्न रहेंगे।
(घ) सामान्य विज्ञान:-
सामान्य विज्ञान के प्रश्न में दिन-प्रतिदिन के अवलोकन एवं अनुभव पर आधारित विज्ञान की सामान्य समझ एवं परिबोध से संबंधित विषय रहेंगें, जैसा कि एक सुशिक्षित व्यक्ति से, जिसने किसी विज्ञान विषय का विशेष अध्ययन नहीं किया हो, अपेक्षित है।

Important Link

Latest Update
Jharkhand ITI Admission 2024 [आवेदन करें]
Chancellor Portal UG Admission 2024 [आवेदन करें]
JAC 8th Result 2024 [Download]
JAC 11th Result 2024 [ घोषित ]
JAC 9th Result 2024 [ घोषित ]
e Kalyan Scholarship 2024 [Online Apply]